दफनाने से पहले पाकिस्तान के झंडे में लि’पटा गिलानी का श’व: कश्मीर पुलिस

289

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर पुलिस द्वारा गुरुवार सुबह गिलानी के श’व को अपने क’ब्जे में लेने के बाद कश्मीरी अल’गाववादी धीर सैयद अली शाह गिलानी, जिनकी तीन दिन पहले 92 वर्ष की आयु में मृ’त्यु हो गई थी, का श’व पाकिस्तान के राष्ट्रीय ध्वज में पड़ा मिला था। मामला आ’तंकवाद विरो’धी अधि’नियम, गैर’कानूनी गतिवि’धि (रोकथाम) अधिनि’यम (यूएपीए) के तहत द’र्ज किया गया है।

गिलानी का बुधवार शाम नि’धन हो गया। उनके नि’धन के बाद कश्मीर में सुरक्षा बढ़ा दी गई और फोन और इंटरनेट सेवाएं बं’द कर दी गईं। कश्मीर में शुक्रवार रात फोन और इंटरनेट सेवा बहाल होने के बाद वीडियो सामने आया और मोबाइल इंटरनेट सेवा अभी भी बा’धित है। पुलिस ने लोगों के शामिल होने पर रो’क लगा दी है।

एक वीडियो में बड़ी संख्या में महिलाएं पाकिस्तान के झंडे में लि’पटे गिलानी के श’व के आसपास जमा हो गईं। जिस कमरे में गिलानी का श’व रखा गया था, वहां हं’गामा और ची’ख-पुकार सुनाई दी। महिलाओं को कमरे का दरवाजा खोलने से रो’का जाता है। एक कमरे में एक ह’थियारबंद पुलिसकर्मी के खड़े होने का वीडियो भी है जहां धार्मिक ग्रंथ लिखे गए थे।

अल’गाववाद की पुरजोर वकालत करने वाले गिलानी का अंतिम संस्कार बस कर दिया गया। गिलानी के श’व को पुलिस जबरन उठा ले गई और परिवार के सदस्यों ने कहा कि उन्हें अंतिम संस्कार में शामिल होने की अनु’मति नहीं है।

जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा, “सभी राष्ट्र वि’रोधी गतिवि’धियों के खि’लाफ प्राथमिकी द’र्ज की गई है।” सिंह ने संवाददाताओं से कहा कि गिलानी के घर के पास जमा हुए लोगों ने एक पुलिस अधिका’री और अन्य पुलिसकर्मियों के साथ गलत व्यवहार किया. वे लोग देश वि’रोधी ना’रे लगा रहे थे और सोशल नेटवर्किंग और फोन कॉल के जरिए लोगों को भड़’काने की कोशिश कर रहे थे।

हालांकि पुलिस लगातार गिलानी साहब और उनके परिवार के संपर्क में थी, लेकिन मुझे नहीं लगा कि उनका परिवार और दूसरे लोग हमारे साथ इतना बुरा कर रहे हैं. सिंह ने कहा कि हम नहीं जानते कि हमारे एक अधिकारी को पिछले हफ्ते गिलानी साहब के घर आने पर एक किताब भेंट की गई थी।

गिलानी के परिवार के सदस्यों का आरो’प है कि गिलानी ने जिस कमरे में उसका श’व रखा था, उसका दरवाजा तो’ड़ा और कै’दी पुलिस आई और श’व को महिलाओं के साथ ले गई. हमने सुबह अंतिम संस्कार खरीदा। लेकिन पुलिस ने हमारी अपील को ठुकरा दिया. जिन्होंने दरवाजा तो’ड़कर बेटियों के साथ अभ’द्र व्यवहार किया। गिलानी के बेटे नसीम गिलानी ने कहा, ‘हम अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाए क्योंकि पुलिस ने श’व को ज’बरन उठा लिया था.’

हालांकि, परिवार के कुछ सदस्य अंतिम संस्कार की प्रार्थना में शामिल हुए, पुलिस ने कहा। पुलिस ने कहा कि गिलानी के श’व को श्रीनगर एयरपोर्ट रोड पर उनके घर के पास हैदरपुर कब्रिस्तान में द’फनाया गया। कश्मीर में पिछले तीन दिनों से प्रतिबं’ध लगा हुआ है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.