महाभारत के युद्ध में एक अरब से अधिक सैनिक मारे गए थे। क्या आप जानते हैं कि उसके बाद उनके शरीर क्या हुआ ?

780

आपने कई टीवी चैनलों पर महाभारत सीरियल देखा होगा। महाभारत के महाकाव्य से लेकर आज तक कई कहानियां छोटे और बड़े पर्दे पर अलग-अलग तरह से सामने आई हैं। पहले इसे रेडियो पर सुना जाता था, लेकिन फिर भी लोगों में हर बार महाभारत के बारे में एक नई जिज्ञासा होती है।

महाभारत के युद्ध में पांडवों ने जीत हासिल की और कौरवों को बहुत नुकसान हुआ। कुरुक्षेत्र में महाभारत का युद्ध भीषण युद्ध था। इसे भारत की एक-चरणीय जनसांख्यिकीय गिरावट के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। इस युद्ध में भारत के राजाओं के अलावा कई अन्य देशों के राजाओं ने भी भाग लिया और सभी शहीद हो गए और लाखों महिलाएं विधवा हो गईं।

महाभारत युद्द में शहीद हुए योधावों का क्या हुआ ? आपके मन में भी यही सवाल मंडराता हुआ होगा। महाभारत युद्द में १ अरब ६६ करोड़ और २० हजार योद्धा शहीद हुए थे। यह विषय युदिष्ठिर ने ही ध्रतराष्ट्र को बताया था। बाद में ध्रतराष्ट्र के आदेश के अनुसार सब शहीदों को दहन कर दिया गया है।

दरअसल, युद्ध जीतने के बाद सभी पांडव श्रीकृष्ण के साथ धृतराष्ट्र और गांधारी के दर्शन करने आए थे। इधर धृतराष्ट्र ने भीम को मारने की कोशिश की लेकिन श्री कृष्ण ने अपने ज्ञान से धृतराष्ट्र के सामने एक मूर्ति रखकर उनकी जान बचाई। तब महर्षि वेदव्यास के कहने पर युधिष्ठिर ने सभी को बुलवाया और कुरुक्षेत्र चले गए। वहां पहुंचकर धृतराष्ट्र ने युधिष्ठिर से युद्ध में मारे गए योद्धाओं की संख्या पूछते हुए कहा कि इस युद्ध में 1 अरब 66 करोड़ 20 हजार सैनिक मारे गए थे।

कुरुक्षेत्र युद्ध में मारे गए युद्ध के दिग्गजों से अवगत धृतराष्ट्र ने युधिष्ठिर को बुलाया और उन्हें उनका अंतिम संस्कार करने के लिए कहा। युधिष्ठिर ने सुधारा और पुजारी दौरामा और संजय, विदुर और अन्य को इस युद्ध में मारे गए सभी सैनिकों का अंतिम संस्कार करने का आदेश दिया, जिसके बाद मारे गए सभी सैनिकों को अंत्यसंस्कार किया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.